HomeInformativeChandra Grahan 2023 Date and Time In India: 28 या 29 अक्टूबर,...

Chandra Grahan 2023 Date and Time In India: 28 या 29 अक्टूबर, कब लगेगा चंद्र ग्रहण?

हमें फॉलो करें

Chandra Grahan 2023 October 28 Or 29, Chandra Grahan Kab Lagega, Chandra Grahan Sutak Kaal Timing 29 October In Hindi: हिन्दू धर्म में चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) का विशेष महत्व है। बता दें कि चंद्र ग्रहण के दौरान पृथ्वी पर राहु और केतु का प्रभाव बढ़ जाता है। Chandra Grahan 2023 कल साल का आखिरी चंद्रग्रहण लगने जा रहा है। चंद्रग्रहण का सूतक ग्रहण शुरू होने से ठीक नौ घंटे पहले से शुरू हो जाता है। सूतक 28 अक्टूबर शाम 4 बजे से शुरू हो जाता है। सूतक काल को अशुभ माना जाता है।

Chandra Grahan 2023 kitne baje lagega in India

Chandra Grahan 2023

इसी वर्ष 14 अक्टूबर को सूर्य ग्रहण लगा था और अब 15 दिनों के अंदर दूसरा ग्रहण भी लगने जा रहा है। साल का दूसरा और अंतिम ग्रहण होगा 29 अक्टूबर के दिन लगने वाला चंद्र ग्रहण(Chandra Grahan 2023 Date and India Time Tonight)। यह चंद्र ग्रहण शरद पूर्णिमा के दिन लगेगा। 15 दिन के अंदर 2 ग्रहण का लगने से इसका प्रभाव और भी ज्यादा बाद जाता है। ऐसे में जब यह चंद्र ग्रहण भारत में भी लगने जा रहा है तो गर्भवती महिलाओं को अत्यंत सावधान हो जाना चाहिए।

Chandra Grahan Timing 29 October In Hindi

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस वर्ष 2023 का आखिरी ग्रहण शरद पूर्णिमा तिथि पर लगने वाला है। बता दें कि पूर्णिमा तिथि 28 अक्टूबर को प्रातः काल 04 बजकर 17 मिनट पर शुरू होगी और 29 अक्टूबर को देर रात 01 बजकर 53 मिनट पर समाप्त होगी। बता दें कि इसके लिए लोग चंद्र ग्रहण की तिथि यानी तारीख को लेकर असमंसज में हैं।

चंद्र ग्रहण कब है 2023 सूतक समय?

चंद्र ग्रहण का सूतक काल 28 अक्टूबर को दोपहर 2 बजकर 52 मिनट से प्रारंभ हो जाएगा. साल 2023 का आखिरी चंद्र ग्रहण कल 28 अक्टूबर को लगने वाला है.

- Advertisement -

Chandra Grahan Timing 29 October 2023

बता दें की इस वर्ष चंद्र ग्रहण 29 अक्टूबर को देर रात 01 बजकर 06 मिनट पर शुरू होगा और देर रात 02 बजकर 22 मिनट पर समाप्त होगा। कुल मिलाकर 1 घंटे 16 मिनट का चंद्र ग्रहण लगेगा।उपच्छाया से पहला स्पर्श देर रात 11 बजकर 32 मिनट पर है।

जैसा की हम सब जानते हैं कि चंद्र ग्रहण के दौरान 09 घंटे का सूतक होता है। अतः सूतक 28 अक्टूबर की संध्याकाल 04 बजकर 06 मिनट पर शुरू होगा। वहीं, सूतक समापन देर रात 02 बजकर 22 मिनट पर होगा। बच्चे, वृद्ध, गर्भवती महिलाएं और अस्वस्थ लोगों के लिए सूतक रात 09 बजे से शुरू होगा।

चंद्र ग्रहण का प्रेगनेंसी पर प्रभाव(Effect of lunar eclipse on pregnancy)

सूर्य ग्रहण लगने के 15 दिन के भीतर लगने वाला यह 29 अक्टूबर का ग्रहण (Grahan 2023 Date and Time) गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत ख़ास है। ग्रहण का प्रभाव मानव जीवन पे बहुत अधिक पड़ता है लेकिन गर्भवती की इस समय मनोदशा और गृह कमजोर होने के कारण, ग्रहण का असर प्रेग्नेंट महिलाओं पर ज्यादा देखा जाता है।

Chandra Grahan 2023

चंद्र ग्रहण के समय ग्रहण की किरणें वातावरण को दूषित कर देती है जिससे गर्भवती को बचना चाहिए। यह दूषित और हानिकारक किरणें गर्भ में पल रहे शिशु के लिए भी सही नहीं मानी जाती है। यह ग्रहण आध्यात्मिक, वैज्ञानिक और धार्मिक दृष्टि से बहुत ख़ास है। चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी रखनी होती है ताकि गर्भ में पल रहे बच्चे पर ग्रहण दुष्प्रभाव न हो।

Also read: Surya Grahan 2023: इस साल के पहले सूर्य ग्रहण से क्या उम्मीद करें, जानिए देश दुनिया पर इसका प्रभाव

मैं ग्रहण कैसे देख सकता हूं?(Grahan Ko kaise Dekh Sakte Hai)

आंशिक या वलयाकार सूर्य ग्रहण को सीधे अपनी आंखों से देखते समय, आपको हर समय सुरक्षित(Chandra Grahan 2023) सौर देखने वाले चश्मे (“ग्रहण चश्मा”) या एक सुरक्षित हाथ में रखे जाने वाले सौर दर्शक से देखना चाहिए।

29 अक्टूबर का चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा या नहीं

28 अक्टूबर से 29 अक्टूबर तक यह ग्रहण लगेगा और यह भारत में दिखाई देगा(29 October Chandra Grahan Visible in India )। इसी वजह से इसका सूतक भी मान्य होगा।

यह चंद्र ग्रहण भारत के अलावा, हिंद महासागर, यूरोप, अफ्रीका, अंटार्टिका, दक्षिणी प्रशांत महासागर, दक्षिण-पूर्वी अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, संपूर्ण एशिया, उत्तरी अमेरिका के उत्तर पूर्वी क्षेत्र में दिखाई देगा।

आशा करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा , लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ब्लॉग को पड़ने के लिए, समझने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

चंद्र ग्रहण में पूजा कैसे करें?(Chandra grahan me puja kaise kare)

ग्रहण के दौरान लोग चन्द्र देव के मंत्रों का जाप करें। सूतक काल आरंभ होने से पहले खाने- पीने की चीजों में तुलसी के पत्ते या कुश डाल सकते हैं। शरद पूर्णिमा की पूजा इस साल सूतक काल से पहले ही करनी होगी। ग्रहण के दौरान मंत्रों के जप का विशेष महत्व होता है।

Disclaimer : इस लेख में दी गयी जानकारी और गणना की विश्वसनीयता और सटीकता की गारंटी हमारी नहीं है। यह जानकारी हमने विभिन्न माध्यमों, ज्योतिषियों, पंचांग, मान्यताओं एवं धर्मग्रंथों से ली है । हमारा उद्देश्य केवल सूचना पहुंचाना है इसका सही मूल्यांकन के लिए आप अपने धर्म गुरु या एस्ट्रोलॉजर से संपर्क करें।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

69th National Film Awards 2023 full list actor and actress Neha Malik लाल रंग की बिकनी में इंटरनेट पर छा गई ये एक्ट्रेस Apple Store launch in Mumbai: Tim Cook eats Vada pav with Madhuri Dixit, celebs pose with the CEO Nandini Gupta wins Femina Miss India 2023 Palak Tiwari ने खुलासा किया कि सलमान खान अपने सेट पर महिलाओं को ‘कम नेकलाइन’ पहनने की अनुमति नहीं देते हैं